जीवन और परमेश्वर के बारे में सवालों का पता लगाने के लिए एक सुरक्षित जगह
जीवन और परमेश्वर के बारे में सवालों का पता लगाने के लिए एक सुरक्षित जगह

क्या आप त्रिएकत्व की व्याख्या कर सकते हैं?

निम्नलिखित संक्षेप में और स्पष्ट रूप से त्रिएकत्व व्याख्या करता है ... वे तीन अलग-अलग ईश्वर है या एक?

-आप और मैं तीन आयामी दुनिया में रहते हैं जहाँ सभी भौतिक वस्तुओं की एक निश्चित ऊंचाई, चौड़ाई और गहराई होती है। एक व्यक्ति किसी और की तरह दिख सकता है या किसी और की तरह व्यवहार कर सकता है या किसी और की तरह बोल भी सकता है। लेकिन असल में ऐसा करने से वह बिलकुल दूसरे व्यक्ति जैसा नहीं हो जाता क्योंकि हर एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति से अलग होता है।

हालांकि, ईश्वर तीन आयामी ब्रह्मांड की सीमाओं सॆ परे हैं। वह तो आत्मास्वरूप हैं और ईश्वर अनंत रूप से हमसे कही ज्यादा जटिल हैं।

इसलिए ईसा (पुत्र) अपने पिता से अलग हो सकते हैं और अभी भी वही हो सकते हैं।

बाइबल में स्पष्ट रूप से बताया गया है कि ईश्वर पुत्र, ईश्वर पिता, और ईश्वर पवित्र आत्मा हैं लेकिन इस बात पर भी जोर दिया गया है कि ईश्वर केवल एक ही है।

यदि हम गणित का उपयोग करे, तो यह 1 + 1 + 1 = 3 नहीं होगा बल्कि यह 1x1x1 = 1 होगा क्योंकि ईश्वर एक परमपवित्र त्रयएक परमेश्वर हैं।

इसी प्रकार इस शब्द, "त्रि" का अर्थ है तीन, और " एकत्व" का अर्थ है एक, त्रि+ एकत्व = त्रिएकत्व और बाइबल हमें ईश्वर के बारे में यह स्वीकार करने का एक तरीका बताती है कि ईश्वर अभी भी तीन "व्यक्ति" हैं जिनमें एक ही देव का सार है।

कुछ लोगों ने त्रिएकत्व को मानव चित्रण देने की कोशिश की है जैसे कि पानी, बर्फ और भाप सभी एचटूओ(H2O) के अलग-अलग रूप हैं, लेकिन सभी एचटूओ(H2O) ही हैं। एक और उदाहरण है सूरज, जिससे हमें प्रकाश, ऊष्मा और विकिरण मिलते है लेकिन यह सब भी एक ही सूरज के तीन अलग-अलग पहलू हैं।

कोई भी चित्रण परिपूर्ण नहीं होता है।

लेकिन शुरू से ही हम ईश्वर को परमपवित्र त्रयएक परमेश्वर के रूप में देखते हैं। बाइबल की पहली पुस्तक, उत्पत्ति में ईश्वर कहते हैं, "हमें अपनी छवि में मनुष्य बनाने दें... पुरुष और महिला को उन्हीं ने बनाया है।"1 आप यहाँ बहुवचन और एकवचन सर्वनामों का मिश्रण देखेंगे।

जब मोसेस ने ईश्वर से उनका नाम पूछा, तो सदा से विद्यमान होते हुए ईश्वर ने उत्तर दिया, "मैं हूँ"।

ईसा ने इस वाक्यांश का कई बार उपयोग किया था।

"मैं संसार की रोशनी हूँ ..."

"मैं जीवन की रोटी हूँ ..."

"मैं ही रास्ता, सच्चाई और जीवन हूँ और कोई भी मनुष्य पिता तक मेरे द्वारा ही पहुँच सकता है।"

ईसा के पृथ्वी पर आने से हजारों साल पहले उत्पत्ति में किसी अब्राहम का उल्लेख है। फिर भी, ईसा ने अपने बारे में कहा, "अब्राहम के जन्म से पहले से मैं हूँ।" यहूदी पूरी तरह से समझ गए थे कि ईसा क्या कह रहे थे क्योंकि उन्होंने "ईश्वर-निंदा" के लिए उन्हें मारने के लिए पत्थर उठाए थे – जब ईश्वर ने होने का दावा किया था।2 ईसा हमारे बीच हमेशा से मौजूद रहे है।

यह समय-समय से होता आया हैं। ईसा अपने पिता के साथ अनूठे रिश्ते के बारे में बहुत ही स्पष्ट थे। यही कारण है कि, “यहूदी नेताओं ने उन्हें मारने के तरीके खोजने की पूरी कोशिश की। क्योंकि ईसा ने न केवल सब्बाथ को तोड़ा था बल्कि उन्होने ईश्वर को अपना पिता भी कहा, जिससे वह स्वयं ईश्वर के समान हो गये। ”3

अनंत काल से, पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा हमेशा एक दूसरे के साथ रिश्ते और संपर्क में रहे हैं, तीन अलग-अलग ईश्वर के रूप में नहीं बल्कि एक परमपवित्र त्रयएक परमेश्वर के रूप में।

त्रिएकत्व में तीनों व्यक्तियों के नाम संबंधित हैं जैसे कि त्रिएकत्व में पहले व्यक्ति को पिता कहा जाता है और जब तक आपका कोई बच्चा नहीं होगा, आपको पिता नहीं कहा जा सकता। त्रिएकत्व में दूसरे व्यक्ति के लिए भी यही होता है जैसे कि जब तक आपके पास पिता न हो, आपको पुत्र नहीं कहा जा सकता। त्रिएकत्व में तीसरे व्यक्ति को द स्पिरिट ऑफ द फादर (मत्ती 10:20) और द स्पिरिट ऑफ द सन कहा जाता हैं (गलातियों 4: 4-6)।”4

यही सवाल का जवाब देता है:

यदि ईसा ईश्वर है, तो वह किससे प्रार्थना कर रहे थे?

ईसा ने पृथ्वी पर भी पिता से बात करना जारी रखा और पिता और आत्मा उनके साथ पृथ्वी पर भी संवाद करते रहे।

हालाँकि यह पूरी सूची नहीं है, पर यहाँ कुछ अन्य शास्त्र है जो ईश्वर को त्रिएकत्व में एक दिखाते हैं।

"हे इजराइल, सुनो अधिपति ही हमारे ईश्वर हैं, और ईश्वर एक है।"5

"मैं ही ईश्वर हूँ, और दूसरा कोई नहीं है; मेरे सिवा कोई ईश्वर नहीं हैं।"6

ईश्वर केवल एक ही है और कोई नहीं।7

बपतिस्मा लेने के बाद, ईसा तुरंत पानी से ऊपर चले गये और आकाश खुल गया और उन्होने परमेश्वर की आत्मा को एक Dove(कबूतर) के रूप में उतरते देखा, और आकाश से एक आवाज आई और कहा, "यह मेरा प्रिय पुत्र हैं, जिससे मैं बेहद प्रसन्न हूँ।"8

"इसलिए जाओ और सभी राष्ट्रों में शिष्य बनाओ उन्हें पिता और पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम पर बपतिस्मा दो।"9

ईसा ने कहा: “मैं और पिता एक ही हैं।”10

"जिसने मुझे देखा है उसने पिता को भी देखा है।"11

"जो मुझे देखता है वह उन्हें भी देखता है जिसने मुझे भेजा है।"12

यदि किसी के पास ईसा मसीह की आत्मा नहीं है, तो वह उनसे संबंधित नहीं है।13

"डेविड के पुत्र जोसेफ, मैरी को अपनी पत्नी के रूप में लेने से नहीं डरे क्योंकि उनके बारे में जो कल्पना की गई है वह पवित्र आत्मा की है।"14

देवदूत ने जवाब दिया और मैरी से कहा, "पवित्र आत्मा आप पर आएगी, और परमप्रधान की शक्ति आप पर छाया करेगी और इस कारण पवित्र संतान को ईश्वर का पुत्र कहा जाएगा।"15

[ईसा मसीह अपने शिष्यों से बात करते हुए] "और मैं पिता से पूछूंगा, और वह तुम्हें एक और सहायक देंगे वह हमेशा तुम्हारे साथ रहेगा, वह है सत्य की आत्मा जिसे दुनिया प्राप्त नहीं कर सकती क्योंकि दुनिया उसे देख या जान नहीं सकती है लेकिन आप उसे जानते हैं क्योंकि वह आपके साथ रहती है और आप में रहती है। " ... "अगर कोई मुझसे प्यार करता है, तो वह मेरा वचन रखेगा; और मेरे पिता भी उसे प्यार करेंगे और हम उसके पास आएंगे और उसके साथ हमारा वास बनाएंगे।"16

कृपया इस लेख को देखें। यह ईसा के ईश्वर होने का प्रमाण देता है।

 मेरा एक सवाल है ...
 परमेश्वर के साथ एक रिश्ता शुरू कैसे किया जाए

फुटनोट्स: (1) उत्पत्ति 1:26,27 (2) यूहन्ना 8:56-59 (3) यूहन्ना 5:16-18 (4) बैरी एडम्स, द किंगडम बिलोंग्स टू लिटिल चिल्ड्रन, पृष्ठ 40. (5) Deut. 6:4 (6) Isa. 45:5 (7) 1 कोरिंथियन 8:4 (8) मत्ती 3:16-17 (9) मत्ती 28:19 (10) यूहन्ना 10:30 (11) यूहन्ना 14:9 (12) यूहन्ना 12:45 (13) रोमन 8:9 (14) मत्ती 1:20 (15) लूका 1:35 (16) यूहन्ना 14:16-17,23

TOP