जीवन और परमेश्वर के बारे में सवालों का पता लगाने के लिए एक सुरक्षित जगह
जीवन और परमेश्वर के बारे में सवालों का पता लगाने के लिए एक सुरक्षित जगह
पसन्द  
साझा करें  

विषाक्त कामोत्तेजक लेख या चित्र , विषाक्त सेक्स -- कामोत्तेजक साहित्य पर एक विशेष अवलोकन

कामोत्तेजक लेख या चित्र की लत से आजादी पाइए, देखिए कामोत्तेजक साहित्य के बारे में 9 असत्य कथन और उनसे मुक्त होने के उपाय

जीन मेक्कोनल के द्वारा

कामोत्तेजक लेख या चित्र और लत -- - - अप्रसंगिक सेक्स ( यौन )

एक ठंडी. काली रात्रि को अग्नि रखने के स्थान पर प्रज्वलित अग्नि से अच्छा कुछ नहीं होता। यह सुरक्षित, गर्म आरामदायक और रोमानी होता है। अब आप उसी आग को आग की जगह से बाहर निकालकर अपने बैठकखाने के बीच में गिरा दीजिए। अचानक वह अग्नि सर्वनाशक बन जाती है। सेक्स या यौन भी आग के समान है। जब तक वह शादी के रिश्ते के सुरक्षित बंधन में बँधा है वह बहुत ही अद्भुत, गर्म और रोमानी है। पर कामोत्तेजक लेख या चित्र यौन को उस विषय से बाहर ले जाता है।

कामोत्तेजक लेख या चित्र की लत को, क्या ईंधन देता है ?

मानसिक वातावरण का एक सबसे महत्वपूर्ण अंग स्वस्थ विचार है कि हम यौन संबंध की दृष्टि से क्या हैं? अगर यह विचार प्रदूषित है, तो हम कौन हैं ? इसका एक महत्वपूर्ण अंग प्रदूषित हो जाता है। कामोत्तेजक लेख या चित्र की संस्कृति कहती है कि यौन, प्रेम और अंतरंगता सभी समान चीजें हैं। कामोत्तेजक साहित्य में, लोग बिल्कुल अपरिचितों के साथ, जिनसे वे तुरंत मिलते हैं यौन करते हैं। उनके लिए केवल उनकी संतुष्टि मायने रखती है। उससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे किसके शरीर का प्रयोग कर रहे हैं। जब तक उन्हें शरीर मिलता है उनके लिए ठीक है। कामोत्तेजक संस्कृति की वजह से आप सोचते हैं कि यौन किसी भी समय, कहीं भी, किसी के भी साथ बिना किसी परिणाम के किया जा सकता है।

-कामोत्तेजक लेख या चित्र के उथले नजरिए के साथ समस्या यह है कि उसके अनुसार, रिश्ते सेक्स के कारण बनते हैं न कि प्रतिबद्धता, देखभाल और आपसी विश्वास से। उस संदर्भ में सेक्स या यौन अद्भुत है जैसे अग्नि रखने के स्थान पर अग्नि का होना। किसी के साथ होना, जो आप को प्यार करता है और आपको स्वीकार करता है, जो पूरा जीवन आपके साथ बिताने के लिए प्रतिबद्ध है, जिसे आप पूर्ण रूप से अपने आप को सौंपने के लिए तैयार हैं वह सेक्स को वास्तव में महान बनाता है।

कामोत्तेजक लेख या चित्र के नशे की लत से आजादी पाने के लिए झूठ को पहचानना

कामोत्तेजक लेख या चित्र से आप सेक्स के बारे में सत्य तथ्य नहीं जान सकते। उसका सत्य से कोई सरोकार नहीं है। यह ज्ञान देने के लिए नहीं बना है, बल्कि बेचने के लिए बना है। यह एक बड़ा व्यवसाय है जो बहुत ज्यादा पैसे बनाता है। वह इसकी परवाह नहीं करता कि कैसे ? वह आपको वैसा दिखाता हैं जो आपको वापस आने तथा और सामान खरीदने के लिए विवश करता है। अतः कामोत्तेजक साहित्य आपको वही झूठ बताता है जो लोगों को आकर्षित करे तथा भीड़ को वहाँ ठहरने के लिए मजबूर करे। यह झूठ पर जीवित रहता है – सेक्स, औरत, विवाह और बहुत सी दूसरी चीजों के बारे में झूठ। आइए , उन असत्य तथ्यों में से कुछ को देखें और देखें कि किस बुरी तरह वे तथ्य आपके जीवन और मनोवृत्तियों में गड़बड़ी मचा देते हैं।

  • असत्य 1 – औरतें मानवों से कम होती हैं।
    औरतों को प्लेबॉय पत्रिका में बनीस (छोटे खरगोश) कहा जाता है। उनको प्यारा सा जानवर, खेलने का जोड़ीदार या एक खिलौना बनाकर दिखाया जाता है। पेंटहाउस पत्रिका उन्हें पालतू पशु या प्रेम पात्र (पेट्स) कहती है। कामोत्तेजक लेख या चित्र औरतों की व्याख्या जानवर, खेलने की वस्तु या शारीरिक अंग की तरह करते हैं। कुछ कामोत्तेजक चित्र औरतों का शरीर या गुप्तांग दिखाते हैं और उनका चेहरा नहीं दिखाते। उनका विचार है कि औरतें वैसी वास्तविक मानव प्राणी हैं जिनके विचार और संवेगों को केवल नीचा दिखाना है।

  • असत्य 2 – औरतें एक खेल हैं।
    कुछ खेल की पत्रिकाओं में स्विमिंग सूट का मुद्दा होता है। ये यह सुझाव देती हैं कि औरतें किसी किस्म का खेल हैं। कामोत्तेजक साहित्य सेक्स को एक खेल की तरह लेता है जिसमें आप जीतते हैं, लड़ते है या अंक बनाते हैं। जो आदमी इसे देखते हैं वे औरतों के खेल में जीते अंक के विषय में बात करना पसंद करते हैं। उन्होंने कितनी लड़ाइयाँ जीतीं, उसके अनुसार वे अपनी मर्दानगी का निर्णय करते हैं। हर औरत जिसके साथ उन्हें ज्यादा अंक मिलते हैं उनके शेल्फ पर रखी ट्राफी या उनकी उपलब्धि के समान होती है जो उनकी मर्दानगी को साबित करती है।

  • असत्य 3 – औरतें एक जायदाद हैं।
    हम सबने चिकनी मोटर गाड़ी की तस्वीर देखी है जिनके साथ कामुक लड़कियाँ लिपटी होती हैं। उनमें अनकहा संदेश छुपा होता है, एक खरीदिए और आपको दोनों मिलेंगे। कड़ा कामुक लेख इसे और आगे ले जाता है। वह औरतों को सूचीपत्र में माल की तरह प्रदर्शित करता है। उनको जहाँ तक हो सके नग्न दिखाया जाता है ताकि ग्राहक की नजर उन पर पड़ सके। यह आश्चर्य की बात नहीं है कि कई युवा लड़के यह सोचते हैं कि अगर वे थोड़ा पैसा खर्च करके एक लड़की को अपने साथ बाहर ले जा सकते हैं, तो उन्हें उनके साथ यौन संबंध बनाने का भी पूरा अधिकार है। कामुक साहित्य कहता है कि औरतों को खरीदा जा सकता है।

  • असत्य 4 – औरत का महत्व उसके आकर्षक शरीर के कारण होता है।
    कामोत्तेजक साहित्य में कम आकर्षक औरतों की हँसी उड़ाई गई है। उन्हें कुत्ता, व्हेल,सूअर या उससे भी गिरा हुआ कहा जाता है क्योंकि वे उत्तेजक लेखों और तस्वीरों की सही औरत की परीधि में नहीं समाती। कामोत्तेजक साहित्य औरतों के मस्तिष्क या व्यक्तित्व की परवाह नहीं करता। उसे केवल औरतों के शरीर से मतलब होता है।

  • असत्य 5 – औरतों को बलात्कार पसंद है।
    जब वह “नहीं ” कहती है तो उसका मतलब हाँ होता है। यह एक ठेठ कामोत्तेजक साहित्य का दृश्य है। औरतों को पहले बलात्कार होते हुए, लड़ते हुए, पैरों से मारते हुए दिखाया जाता है। फिर धीरे – धीरे उन्हें उसे पसंद करते हुए भी दिखाया जाता है। कामुक साहित्य आदमी को अपने मनोरंजन के लिए औरत को कष्ट देने और गालियाँ देने में खुश होना सिखाता है।

  • असत्य 6 – औरतों को अपमानित करना चाहिए।
    कामोत्तेजक साहित्य औरतों के प्रति घृणात्मक भाषणों से भरा है। औरतों पर अत्याचार और उन्हें बेआबरू होते हुए कई बीमार तरीकों से दिखाया गया है। उन्हें ज्यादा के लिए भीख मांगते हुए भी दिखाया गया है। क्या इस तरह का व्यवहार औरतों के प्रति किसी प्रकार का आदर या प्रेम दिखा सकता है या यह औरतों के लिए घृणा और तिरस्कार है जिसको कामोत्तेजक साहित्य बढ़ावा दे रहा है ?

  • असत्य 7 – छोटे बच्चों से यौन करना चाहिए।
    कामोत्तेजक साहित्य की सबसे ज्यादा बिकनेवाली बच्चे की नकल है। औरतें छोटी बच्चियों जैसी चोटियाँ, जूते और हाथ में छोटे भालूवाला खिलौना लेकर उनके जैसी बनती सँवरती दिखाई जाती हैं। उन तस्वीरों और कार्टून से यह संदेश मिलता है कि बड़े यदि बच्चों के साथ सेक्स करते हैं तो वह सामान्य है। कामोत्तेजक साहित्य का प्रयोग करनेवाले बच्चों को यौनात्मक तरीके से देखते हैं।

  • असत्य 8 – अवैध सेक्स मनोरंजक होता है।
    कामोत्तेजक साहित्य यह बताता है कि सेक्स को मनोरंजक बनाने के लिए अवैध या खतरनाक तत्व का छिड़का जाना जरूरी है। वह यह सुझाव देता है कि सेक्स का मजा तबतक नहीं लिया जा सकता जब तक वह तार से बँधा न हो, अवैध या खतरनाक न हो।

  • असत्य 9 – वैश्यावृत्ति मोहक होती है।
    कामोत्तेजक साहित्य वैश्यावृत्ति की रोमांचक तस्वीर प्रस्तुत करता है। बहुत सी औरतें जो कि कामोत्तेजक सामग्री में दिखाई देती हैं, वास्तव में घर से भागी हुई होती हैं और गुलामी के जीवन में फँस जाती हैं। बहुत सी यौन दुर्व्यवहार का शिकार होती हैं। उनमें से कुछ यौन संचारित रोगों से संक्रमित होती हैं जो अत्यधिक संक्रामक होते हैं और उनके कारण वे बहुत छोटी आयु में ही मर जाती हैं। बहुत सी औरतें परिस्थतियों से समझौता करने के लिए नशीली दवाइयाँ लेने लगती हैं।

कामोत्तेजक साहित्य की लत का मुख्य निष्कर्ष

युवा युवतियों की बर्बाद की गई जिन्दगी से कामोत्तेजक साहित्य लाभ उठाते हैं और युवकों को बर्बाद करते हैं जो अपना बहुत सा समय और पैसा उनके उत्पाद के अधीन होकर खर्च करते हैं।

-हम यह सोचते हैं कि जिन चीजों को हम देखते और सुनते हैं वे हमें प्रभावित नहीं करती। फिर भी हम यह मानते हैं कि अच्छा संगीत, अच्छा चलचित्र और अच्छी किताबें हमारे जीवन में बहुत परिवर्तन लाती हैं। वे हमें आराम देती हैं, ज्ञान देती हैं, हमें आगे बढ़ाती हैं और हमें प्रेरित करती हैं। जिस प्रकार ऊपर उठानेवाले मीडिया से हमें लाभ पहुंचता है उसी प्रकार कामुक छवि का हमारे ऊपर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

छवि हमेशा तटस्थ नहीं होती। वे हमें बाध्य करती हैं। व्यवसाय करनेवाले जानते हैं कि अगर वे अपने उत्पाद की बाध्य करनेवाली छवि आपके समक्ष एक अत्यन्त भावात्मक क्षण में प्रस्तुत करते हैं तो वह छवि आपके अवचेतन मन में रह जाएगी। विज्ञापन दिखानेवाले वैज्ञानिक अपने काम में बहुत ही चतुर होते हैं। वे भविष्यवाणी कर सकते हैं कि अगर आपने उनके विज्ञापन को देखा तो उनका उत्पाद आप और कितना खरीदेंगे। कभी – कभी देखनेवाले उत्पाद का नाम भी नहीं देखते हैं। रीस पीसेस ने अपनी कैंडी को ईटी चलचित्र के बीच कुछ सेकेण्ड दिखाने के लिए बहुत बड़ा मूल्य चुकाया और रीस पीसेस की बिक्री आकाश को छूने लगी। क्यों ? क्योंकि जो भावना यह देखने में जुड़ी थी कि छोटा लड़का अजनबी की तरफ बढ़ रहा है उसे, कैंडी की छवि की तरफ स्थानांतरित कर दिया गया था। उत्पाद के एक पल का दर्शन – भले ही वह ध्यान का केन्द्र नहीं था – उसने लोगों के व्यवहार को प्रभावित कर दिया। एक चलचित्र के प्रभाव की कल्पना कीजिए जो आपके ध्यान को डेढ़ घण्टे तक यौन व्यक्त छवि के साथ पर्दे से चिपका कर रखता है।

एक आदमी पर कामुक अश्लील साहित्य का क्या प्रभाव पड़ता है ?

कामुक लेख या चित्र किस प्रकार के विचार हमारे दिमाग में भरते हैं ? अगर गलत चीजें दिमाग में जमा होती रहेंगी तो आपका मानसिक वातावरण इतना ज्यादा प्रदूषित हो जाएगा कि आपके जीवन में समस्याएँ शुरू हो जाएँगी। मानसिक वातावरण का एक सबसे मुख्य अंग स्वस्थ विचार है कि हम लैंगिक दृष्टि से क्या हैं ? अगर ये विचार प्रदूषित होंगे तो एक महत्वपूर्ण अंश कि हम क्या हैं, भी प्रदूषित हो जाएगा।

कामुक अश्लील साहित्य की लत : उसके प्रति खिंचाव

सभी जो कामुक अश्लील लेख या चित्र पढ़ते या देखते हैं, जरूरी नहीं है कि उनको इसकी लत पड़ जाए। कुछ लोग औरतों, यौन, विवाह और बच्चों के प्रति विषाक्त विचार लेकर बाहर निकल आते हैं। कुछ लोग उससे भावनात्मक रूप से जुड़ जाते हैं और उस नशे के आदी हो जाते हैं। कामुक अश्लील साहित्य की कंपनी को बिल्कुल बुरा नहीं लगता है। अगर आप उनके उत्पाद के आदी हो गए हैं तो उनके व्यवसाय के लिए यह और अच्छा है। डॉक्टर विक्टर क्लाइन ने लत की उन्नति को विभिन्न स्तरों पर बाँटा है - लत, वृद्धि, विसुग्राही और अभिनय। जिन्हें कामुक अश्लील साहित्य की लत है, मैंने देखा है कि उन्हें एक दूसरा स्तर है जो पहले आता है – जल्दी प्रदर्शन। आइए इन स्तरों को देखते हैं :

जल्दी प्रदर्शन
ज्यादातर लोग जिन्हें कामुक अश्लील साहित्य की आदत पड़ जाती है वे उसे जल्दी शुरू कर देते हैं। छुटपन से ही वे कामुक अश्लील साहित्य देखना और पढ़ना शुरू कर देते हैं और धीरे – धीरे वह उनके जीवन में अपना घर कर लेती है।

कामुक अश्लील साहित्य की लत
आप बार – बार कामुक अश्लील साहित्य की तरफ लौटते हैं। वह आपके जीवन का एक नियमित अंग बन जाता है। आप फँस जाते हैं और उसे छोड़ नहीं पाते।

वृद्धि
आप और ज्यादा चित्रात्मक या सजीव कामुक अश्लील साहित्य ढूढ़ने लगते हैं। जिस कामुक चित्र या लेख को आप पसंद नहीं करते थे उसका आप प्रयोग करने लगते हैं और वह आपको उत्तेजित करने लगता है।

िसुग्राही
आप जिस छवि को देखते हैं, उसे देखकर आप सुन्न हो जाते हैं। अब सबसे अधिक चित्रात्मक या सजीव कामुक अश्लील साहित्य भी आपको उत्तेजित नहीं करता। आप बेतहाशा उस उत्तेजना को फिर से पाना चाहते हैं पर वह आपको नहीं मिलती।

कामुकता अभिनय
यह वही बिन्दु है जहाँ आदमी एक महत्त्वपूर्ण छलांग लगाता है। जिन छवियों को उन्होंने देखा है उसका वे अभिनय करना चाहते हैं। कुछ कागज और प्लास्टिक की कामुक छवियों से निकलकर वास्तविक जगत में चले जाते हैं और वास्तविक लोगों के साथ उसका अभिनय विनाशक तरीकों से करते हैं।

कामुक अश्लील साहित्य की लत : क्या मैं लत से ग्रस्त हूँ ?

अगर आप इनमें से किसी तरह का प्रतिरूप अपने जीवन में देखते हैं, आपको उसी समय इसे रोकना होगा। क्या कामुक साहित्य ज्यादा से ज्यादा आपके जीवन को नियंत्रित कर रहा है ? क्या आपको उसे दूर करने में मुश्किल हो रही है ? क्या आप बार –बार उसके पीछे भागते हैं ?

कामुक अश्लील साहित्य की लत : मैं क्या कर सकता हूँ ?

सबसे पहली चीज जो आपको करनी होगी कि यह मानना होगा कि आप कामुक अश्लील साहित्य के साथ संघर्ष कर रहे हैं। आप विश्वास कीजिए, जो आप कर रहे हैं वह आश्चर्यजनक और असामान्य नहीं है। करोड़ो लोग जो अलग –अलग स्तर पर हैं कामुक अश्लील साहित्य से लड़ रहे हैं। पर वास्तव में यह आश्चर्यजनक नहीं है। कामुक उद्योग ने आपको जाल में फँसाने की कोशिश में करोड़ों डॉलर खर्च किए हैं। यह चौकानेवाला सच है कि वे अपनी कोशिश में कामयाब हो गए हैं। आपमें से कुछ के भूतकाल में कुछ मुद्दे होंगे, जैसे यौन दुर्व्यवहार या यौन अनावरण। उसके कारण कामुक अश्लील साहित्य की लत को छुड़ाना और मुश्किल हो जाता है। उसके लिए आप खुद ही लत को छुड़ाने के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं जैसे – बिना मदद के लड़ना।

आपको इस लत को छुड़ाने के लिए किसी की मदद चाहिए। गोपनीयता पर काबू पाना नितांत आवश्यक है। शायद आप उसके बिना लत से नहीं बच सकते। उसका यह मतलब नहीं है कि सभी को यह मालूम पड़े कि आप संघर्ष कर रहे हैं। आप जिस पर विश्वास कर सकते हैं उसे चुनिए,जो उन आदमियों को परामर्श देते हैं जिन्हें लत छोड़ने में कठिनाई हो रही हो – एक पादरी, युवा समूह का नेता या सलाहकार। कोई जिसपर आप पूरी तरह विश्वास कर सकते हैं, जिसके साथ आप अपने आपको सुरक्षित महसूस कर सकते हैं, जिसका लत के क्षेत्र में अनुभव है, उसे आश्चर्य नहीं होगा।

कामुक अश्लील साहित्य की लत से क्या आजादी पाई जा सकती है ?

कामुक अश्लील साहित्य झूठ के द्वारा आपको फँसाता है। इसके विपरीत ईश्वर हमें सच की दिशा में ले जाते हैं। ईसामसीह ने कहा, “यदि तुम मेरे वचन में बने रहोगे, तो सचमुच मेरे चेले ठहरोगे और सत्य को जानोगे, और सत्य तुम्हें स्वतंत्र करेगा।” 1 जिन्होंने ईसामसीह को यह कहते सुना वे कुपित हो गए और उन्होंने उसका विरोध किया, “हम तो इब्राहीम के वंश से हैं और कभी किसी के दास नहीं हुए; फिर तू क्योंकर कहता है, कि तुम स्वतंत्र हो जाओगे?” 2 ईसामसीह ने उन्हें समझाया कि जो कोई पाप करता है, वह पाप का दास है। यदि वह तुम्हें स्वतंत्र करेगा, तो सचमुच तुम स्वतंत्र हो जाओगे। 3

पाप केवल हमें अपना गुलाम नहीं बनाता बल्कि हमें ईश्वर से भी दूर कर देता है। कोई भी दोषहीन नहीं होता। ईश्वर की नजर में कोई धर्मी नहीं होता। बल्कि हमें कहा गया है, “ हम तो सब के सब भेड़ों की नाईं भटक गए थे; हम में से हर एक ने अपना अपना मार्ग लिया ;” 4 हम सभी ईश्वर के न्याय और सजा के अधिकारी हैं। फिर भी ईश्वर, जो कि पवित्र और प्रेम करनेवाला है उसने हमें हमारे पापों का एक समाधान दिया है, ताकि हम न्यायपूर्ण तरीके से दंडित न हों। उसने व्यक्तिगत रूप से हमारे पापों का दंड अपने ऊपर ले लिया। ईसामसीह, परमेश्वर के पुत्र को यातनाएँ दी गईं और वे शूली पर हमारे पापों के लिए मरे ताकि हमें क्षमा प्राप्त हो सके। तीन दिन बाद ईसामसीह पुनर्जीवित हुए, जैसा कि उन्होंने कहा था कि वे जीवित लौटेंगे। अब वे आपको अपने साथ एक रिश्ता बनाने का प्रस्ताव दे रहे हैं। बाइबल के बहुत से विवरणों में से एक अद्भुत कथन यह है, “ यदि हम अपने पापों को मान लें, तो वह हमारे पापों को क्षमा करने और हमें सब अधर्म से शुद्ध करने में विश्वासयोग्य और धर्मी है।” 5

सबसे महत्त्वपूर्ण रिश्ता

अंतरंगता और प्रेम की आपकी खोज में, कामुक अश्लील साहित्य सच्चे प्यार के लिए एक खाली विकल्प है। हमें ईश्वर ने इसलिए बनाया है ताकि हमारी अंतरंगता की जरूरतें खुद ईश्वर के द्वारा गहराई से पूरी की जा सके, “ क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए।” 6 इसके विपरीत लोगों के जीवन में कामुक अश्लील साहित्य जो अंधेरा और तबाही लाता है, ईसामसीह ने कहा, “ मैं इसलिये आया कि वे जीवन पाएं, और बहुतायत से पाएं।” 7 ईश्वर आपको अपनी क्षमा अपने साथ एक रिश्ते के रूप में देते हैं। क्या आप उनसे पूछना चाहते हैं कि वे आपको क्षमा करें और आपके जीवन में आएँ ? आप उन्हें यह अभी इसी समय बता सकते हैं। अगर आपको इसे शब्दों में कहने के लिए मदद की जरूरत है तो यहाँ एक प्रार्थना है जो आपकी मदद कर सकती है :

प्रभु ईसामसीह, मैं अपने पापों से अवगत हूँ। मुझे आपकी जरूरत है। मैं आपसे प्रार्थना करता हूँ कि मुझे क्षमा कीजिए और मुझे शुद्ध कीजिए। मेरे पापों के लिए शूली पर चढ़ने के लिए धन्यवाद। मैं अपने जीवन का द्वार खोलता हूँ और अपने मालिक और रक्षक के रूप में आपका स्वागत करता हूँ। मेरे जीवन को अपने नियंत्रण में लीजिए और मुझे उस तरह का इंसान बनाइए जैसा कि आप चाहते हैं कि मैं बनूँ। मेरे पापों को क्षमा करने के लिए और इसी समय मेरे जीवन में आने के लिए धन्यवाद। ”

 मैंने यीशु को मेरे जीवन में आने के लिए कहा (कुछ उपयोगी जानकारी इस प्रकार है) ...
 मैंने अपने जीवन में यीशु पूछना चाहते हो सकता है, और पूरी तरह से यह समझाने कृपया ...
 मेरा एक सवाल है ...

(1) यूहन्ना 8:31-32 (2) यूहन्ना 8:33 (3) यूहन्ना 8:34 (4) यशायाह 53:6 (5) 1यूहन्ना 1:9 (6) यूहन्ना 3:16 (7) यूहन्ना 10:10

दूसरों केसाथ बाँटिए  

TOP